प्रदीप बर्मन: एक ऐसे आंट्रप्रन्योर जो पर्यावरण को काफी गंभीरता से लेते हैं

नवोन्मषकों एवं परोपकारियों के परिवार में पैदा हुए प्रदीप बर्मन डाबर के संस्थापक डॉ. एस. के. बर्मन के प्रपौत्र हैं। उन्होंने बचपन से ही इन गुणों को अपने आचार-व्यवहार में समाहित कर लिया। प्रदीप अभी नवोन्मेष आधारित उभरती फार्मास्युटिकल कंपनी Sanat Products Ltd. के चेयरमैन हैं।

1984 में स्थापित यह कंपनी न्यूट्रैस्युटिकल्स, कॉस्मेस्युटिकल्स और हर्बल एक्सट्रैक्ट्स की मैन्युफैक्चरिंग और मार्केटिंग करती है। कंपनी के कॉर्पोरेट ऑफिस और मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट (R&D) यूनिट हैं जिनमें योग्य एवं सक्षम पेशेवरों की भरमार है। Sanat Products Limited का R&D विंग उच्च स्तर का है जिसे भारत सरकार के विज्ञान एवं तकनीकी विभाग (DTS) से मान्यता प्राप्त है।

प्रदीप Ayurvet Ltd. और AGES Ltd. के भी फाउंडर चेयरमैन हैं। आयुर्वेट देश की अग्रणी पशु देखभाल कंपनियों में एक है जो 100% नैचरल एवं सुरक्षित हर्बल प्रॉडक्ट्स में महारत हासिल रखता है। अल्टरनेटिव ग्रीन एनर्जी सलूशन (AGES) पशुओं के लिए सालोंभर हाइड्रोपोनिक ग्रीन फॉडर मुहैया कराने को लेकर प्रतिबद्ध है। हाइड्रोपोनिक्स टेक्नॉलजी का मकसद कृषि को बढ़ावा देना और पानी बचाना है।

उनके नाम कई पुरस्कार एवं सम्मान हैं। उन्होंने न केवल औद्योगिक जगत में बल्कि सामाजिक सेवा के क्षेत्र में भी अपनी छाप छोड़ी है। वह मोबियस फाउंडेशन के चेयरमैन हैं। यह एक नॉन-प्रॉफिट ऑर्नाइजेशन है जो शिक्षा, संवहनीयता (सस्टेनिबिलिटी) और पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करती है।

मोबियस फाउंडेशन संवहनीय रिवाजों (सस्टेनेबल प्रैक्टिसेज) के अभियान को बढ़ावा देने के लिए पब्लिक और एनजीओ सहयोगियों के साथ मेलजोल का रास्ता अपनाता है। फाउंडेशन का मकसद शिक्षा, नवीकरणीय ऊर्जा (रीन्यूएबल एनर्जी), रीसाइक्लिंग और जनसंख्या स्थिरीकरण (पॉप्युलेशन स्टैबिलाइजेशन) जैसे विभिन्न परियोजनाओं के जरिए पर्यावरण को लेकर जिम्मेदारी का भाव पैदा करना है।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी प्रदीप बर्मन के विचारों एवं कार्यों को नजदीकी से जानने-समझने के लिए हमने उनसे बातचीत की है…

आगे पढ़ते रहने के लिए यहाँ क्लिक करें

Post a comment